गढवाल (वंश)

मैथिली विकिपिडियासँ, एक मुक्त विश्वकोश
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

गढवाल (वंश) जाट जनजातिसभक गोत्र छी ।

मूल वे तोमर की शाखा हैं । संभव है कि गढ़वाल से आए लोगों ने इसी के आधार पर अपना गोत्र अपनाया हो। वे गढ़मुक्तेश्वर के शासक थे । इसलिए गोत्र। [13]

गढ़वाल गोत्र की उत्पत्ति उन लोगों से हुई है जो समूह में गाड़ियाँ (गड़ियाँ) ले जाते थे (गाड़ीवाले) कहलाते थे। [14]

इतिहास ऐसा माना जाता है कि जाटों के गढ़वाल गोत्र का नाम इस तथ्य के नाम पर रखा गया था कि जाटों के इन 52 सरदारों के पास 52 गढ़ [किले] थे, प्रत्येक प्रमुख का अपना स्वतंत्र किला (गढ़) था। लगभग 500 साल पहले, इन प्रमुखों में से एक, अजय पाल ने सभी छोटी रियासतों को अपने अधीन कर लिया और गढ़वाल साम्राज्य की स्थापना की।

ठाकुर देशराज [15] के अनुसार अनंगपाल के काल में वे गढ़मुक्तेश्वर के शासक थे । राजपाल के एक पूर्वज मुक्ता सिंह नामक जाट सरदार थे, जिन्होंने गढ़मुक्तेश्वर किले का निर्माण किया था। जब पृथ्वी राज दिल्ली का शासक बना तो उसने गढ़मुक्तेश्वर पर आक्रमण किया। एक भीषण युद्ध हुआ और गढ़वाल पृथ्वी राज चौहान की सेना को खदेड़ने में सक्षम थे लेकिन उस समय की परिस्थितियों ने उन्हें वहां से हटने के लिए मजबूर कर दिया और राजस्थान चले गए ।

तलवडी में जब मुहम्मद गोरी और पृथ्वी राज के बीच युद्ध हुआ, जाटों ने मुगलों की सेना पर हमला किया लेकिन उन्होंने पृथ्वी राज का समर्थन नहीं किया क्योंकि उसने उनके राज्य पर कब्जा कर लिया था। एक जाट योद्धा पूरन सिंह मलखान की सेना के जनरल बने । मलखान पूरन सिंह के समर्थन के कारण लोकप्रिय हो गया था।

जब गढ़वालों ने गढ़मुक्तेश्वर खो दिया, तो वे राजस्थान आए और 13 वीं शताब्दी में झुंझुनू के पास केर , भटिवार , छावसारी आदि पर कब्जा कर लिया । उनके बार्डों के अनुसार जब ये लोग इस स्थान पर आए तो जोहिया , मोहिया जाट इस क्षेत्र के शासक थे। भट्ट ने इनका उल्लेख तोमर के रूप में किया है । जब इस क्षेत्र में मुस्लिम प्रभाव बढ़ा तो उनके साथ उनके युद्ध हुए जिसके परिणामस्वरूप वे यहाँ से वहाँ चले गए। इनमें से एक समूह ' कुलोठ ' में चला गया, जिस पर चौहानों का शासन था । [16]एक युद्ध के बाद उन्होंने कुलोत पर कब्जा कर लिया। सरदार कुर्दाराम जो कुलोठ के गढ़वाल के वंशज थे, नवलगढ़ के तहसीलदार थे ।

यह भी कहा जाता है कि किले के अंदर से युद्ध के कारण उन्हें गढ़वाल कहा जाता था। किले के बाहर से युद्ध लड़ने वालों को ' बहरोला ' या ' बरोला ' कहा जाता था । द्वार पर लड़ने वालों को ' फालसा ' (द्वार का स्थानीय नाम) कहा जाता था। इससे पता चलता है कि यह गोत्र शीर्षक आधारित है। [17]

एक अन्य मत यह है कि संभवतः वे पांडुवंशी या कुंतल थे । भट्टों ने उनका उल्लेख तोमर के रूप में किया है और तोमर भी पांडुवंशी थे । [18]

भागवत पुराण और महाभारत में भी गढ़मुक्तेश्वर का उल्लेख किया गया है। ऐसा कहा जाता है कि यह प्राचीन शहर हस्तिनापुर (कौरवों की राजधानी) का एक हिस्सा था। यहां एक प्राचीन किला था, जिसकी मरम्मत मीर भवन नामक एक मराठा नेता ने की थी। जगह का नाम मुक्तेश्वर महादेव के महान मंदिर से लिया गया है, जो देवी गंगा को समर्पित है, जिनकी यहां चार मंदिरों में पूजा की जाती है, दो ऊंची चट्टान पर स्थित हैं और दो इसे उड़ाते हैं।


गढ़वाल वंश द्वारा स्थापित गांव Garhwalon Ka Khera (गढवालों का खेड़ा) - village in Hurda tahsil in Bhilwara district in Rajasthan. Garhwalon Ki Dhani (गढ़वालों की ढाणी) - village in Laxmangarh tahsil in Sikar district of Rajasthan. गढ़वाल गोत्र का इतिहास गढ़वाल (c.13 ई.): गढ़मुक्तेश्वर का राज्य जब इनके हाथ से निकल गया, तो झंझवन (झुंझनूं) के निकटवर्ती-प्रदेश मे आकर केड़, भाटीवाड़, छावसरी पर अपना अधिकार जमाया। यह घटना तेरहवीं सदी की है। भाट लोग कहते हैं जिस समय केड़ और छावसरी में इन्होंने अधिकार जमाया था, उस समय झुंझनूं में जोहिया, माहिया जाट राज्य करते थे। जिस समय मुसलमान नवाबों का दौर-दौरा इधर बढ़ने लगा, उस समय इनकी उनसे लड़ाई हुई, जिसके फलस्वरूप इनको इधर-उधर तितर-बितर होना पड़ा। इनमें से एक दल कुलोठ पहुंचा, जहां चौहानों का अधिकार था। लड़ाई के पश्चात कुलोठ पर इन्होंने अपरा अधिकार जमा लिया। सरदार कुरडराम जो कि कुलोठ के गढ़वाल वंश-संभूत हैं नवलगढ़ के तहसीलदार हैं। यह भी कहा जाता है कि गढ़ के अन्दर वीरतापूर्वक लड़ने के कारण गढ़वाल नाम इनका पड़ा है। इसी भांति इनके साथियों में जो गढ़ के बाहर डटकर लड़े वे बाहरौला अथवा बरोला, जो दरवाजे पर लड़े वे, फलसा (उधर दरवाजे को फलसा कहते हैं) कहलाये। इस कथन से मालूम होता है, ये गोत्र उपाधिवाची है। बहुत संभव है इससे पहले यह पांडुवंशी अथवा कुन्तल कहलाते हों। क्योंकि भाट ग्रन्थों में इन्हें तोमर लिखा है और तोमर भी पांडुवंशी बताये जाते हैं। [19]

ठाकुर देशराज[20] ने लिखा है .... यदुवंश में एक गज हुआ है। जैन पुराणों के अनुसार गज कृष्ण का ही पुत्र था। उसके साथियों ने गजनी को आबाद किया। भाटी, गढ़वाल, कुहाड़, मान, दलाल वगैरह जाटों के कई खानदान गढ गजनी से लौटे हुए हैं।

रतन लाल मिश्र[21]लिखते हैं कि एक दूसरा प्रमाण भी है जो फतेहपुर नगर के बसने की बात को थोड़ा पीछे ले जाता है. फ़तेहखां फतेहपुर आया तो अपने साथ पंडित, सेठ, साहूकार लेकर आया. श्री किशनलाल ब्रह्मभट्ट की बही के लेख से ज्ञात होता है कि फ़तेहखां हिसार से संवत 1503 (1446 ई.) में ही इधर आ गया था. इस बही में यों लिखा है -

"हरितवाल गोडवाल नारनोल से फतेहपुर आया, संवत 1503 की साल नवाब फ़तेहखां की वार में चौधरी गंगाराम की बार में." राजस्थान में वितरण जयपुर शहर में स्थान Ambabari, Jhotwara, Khatipura, Murlipura Scheme, Purani Basti, Sanganer, Shastri Nagar, Sindhi camp,

जयपुर जिले के गांव अलीवास (शिवदाशपुरा), भैंसवा (50), भूरटिया (6), गोपालपुरा मंडावारी (1) , लोर्डी , मंजीपुरा , मोरिजा , नगरी धंधोली (1), नयागांव (1), परसोली , रामचंद्रपुरा (1), रूपबास कड़ाडा (1) , श्रीरामपुरा , टिटारिया , तुर्कियावास रेनवाल (250), उर्सेवा ,

अलवर जिले के गांव बस्सई जोगियां ,

सीकर जिले के गांव राजस्थान में वे सीकर जिले के कई गाँवों में निवास करते हैं जो हैं:

बाजोर , बिड़सर , दधिया , दौलतपुरा , धंधन ( 2 ), धनी गढ़वाल , धीरजपुरा, दंता रामगढ़ (30), धीरजपुरा , फदनपुरा , फतेहपुर , गोकुलपुरा , गुमाना का बस ( कटराथल ), जीनवास (55), झझर सीकर , झिगर छोटी , झिमिल जालू का बस , कंवरपुरा श्रीमाधोपुर (200) , कटराथल , खुद , कुदान , Laxman Ka Bas, Molyasi, Neem Ki Dhani (Katrathal), Nimeda Sikar[22], Pratappura(Khuri), Ranoli, Rulyani, Sanwloda Purohitan, Sewad Badi, Sewad Chhoti, Sihot Chhoti, Sikar, Sirohi, Tasar Badi, Thikaria Bawdi, Thorasi, Tunwa,

चुरू जिले के गांव बीदासर , धानी कलेरा (4), गागोर , ख्याली , नेशाल , सितार , सुजानगढ़ (2),

झुंझुनू जिले के गांव बाजवा, भटिवार , भोरकी ( 400 ), बिरोल , चंदवा , गढ़वालों की ढाणी , जाखल , झुंझुनू कोलसिया , कुलोठ , मंडासी (1), नरहर , सोनासर , सुल्ताना ,

नागौर जिले के गांव बगर मेड़ता (1), बागोट , बेदास खुर्द , बुरोड , जोधरास डेगाना , झुंझारपुरा (2), कसुंबी , मंडल जोधा , फिरवासी (200), रबडियाद , रसाल , सानिया ,सांखला की ढाणी (लोरोली कंला)

कोटा जिले के गांव कोटा,

बांसवाड़ा जिले के गांव Banswara,

Villages in Hanumangarh district Kikarali, Bojhla, Hanumangarh, Dhalewal, Ghotra Khalsa, Maliya Nohar, Sangaria, Talwada Khurd,

टोंक जिले के गांव Ganeti, Hajipura (4), Nimola (2), Wajirpura (3),

भीलवाड़ा जिले में गांव Garhwalon Ka Khera, Garoliya Khera,

Villages in Sawai Madhopur district जुवाड़ , कुश्तला

हरियाणा में वितरण फतेहाबाद जिले के गांव Bhodia Kheda, Phoolan,

भिवानी जिले में गांव असलवास मृहट्टा , बरसी जट्टं , रतेरा , दिनोद ,

हिसार जिले के गांव Sundawas, Bandaheri Hisar, Kharia Hisar, Dobhi, Kuleri Hisar

पंजाब में वितरण फिरोजपुर जिले के गांव किलियांवाली ,

मध्य प्रदेश में वितरण बड़वानी जिले के गांव टेम्पला [23]

देवास जिले के गांव देवला

मंदसौर जिले के गांव Ranayra (Sitamau) (Mandsaur)

Garwal Jats live in villages: Betikheri, Handari, Rajnagar (Sitamau), Ralayta (Multanpura),

इंदौर जिले के गांव परदेशीपुरा (इंदौर शहर का एक इलाका)

रतलाम जिले के गांव इस गोत्र की आबादी वाले रतलाम जिले के गांव हैं:

Dantodiya 7, Hanumanpalia 2,

सीहोर जिले में गांव जमोनिया कलां (पांडागांव) [24]

उज्जैन जिले के गांव Jaiwantpur,

भोपाल जिले के गांव Beragarh

धार जिले के गांव खेरवास [25]

खरगोन जिले के गांव Bhikhar Khedi (2), Karahi Khargone,

उत्तर प्रदेश में वितरण बदायूं जिले के गांव Dharmpur Biharipur,

उत्तर-पूर्वी क्षेत्र में वितरण गडवाल भारत के उत्तर-पूर्वी क्षेत्र में भी पाए जाते हैं जहाँ वे गोडवाल भी लिखते हैं

सन्दर्भ सामग्रीसभ[सम्पादन करी]

बाह्य जडीसभ[सम्पादन करी]

एहो सभ देखी[सम्पादन करी]