सामग्री पर जाएँ

तुलसी विवाह

मैथिली विकिपिडियासँ, एक मुक्त विश्वकोश
तुलसी विवाह
{{{holiday_name}}}
तुलसी विवाह
आधिकारिक नामतुलसी विवाह
समुदायहिन्दू
प्रकारधार्मिक
अनुष्ठानएक दिन
आरम्भप्रबोधिनी एकादशी
समापनकार्तिक पूर्णिमा
२०२३ मेनवम्बर २३
२०२४ मेdate missing (please add)
मानाएलवार्षिक

तुलसी विवाह एक हिन्दू उत्सव छी, जहिमे एक प्रतीकात्मक समारोहिक विवाह एक तुलसी पादप या पवित्र तुलसी (लक्ष्मीक व्यक्तित्व) आ एक शालिग्राम या एक अमला शाखा (विष्णुक व्यक्तित्व) के बीच होइत अछि। तुलसी विवाह हिन्दू धर्ममे मानसूनक अंत आ विवाहक ऋतुक आरम्भक प्रतीक अछि। कार्तिक मासक शुक्ल पक्षक एकादशीमे भगवान विष्णुक शालीग्राम रूप आ माता तुलसीक विवाह कएल जाइत अछि।[१]

उत्सवसभ

[सम्पादन करी]

तुलसीक विवाह समारोह विष्णु/कृष्णक पारंपरिक हिन्दू विवाह जकाँ होइत अछि. विवाह समारोह घरसभमे आ मन्दिरसभमे आयोजित कएल जाइत अछि जतय साँझ धरि उपवास रहैत अछि, जखन समारोह शुरू होइत अछि. घरक आंगनक चारू कात मण्डप (विवाहक बूथ) बनाओल जाइत अछि जतय तुलसीक पौधा प्रायः आंगनक बीचमे ईटाक प्लास्टरमे लगाओल जाइत अछि जकरा तुलसी वृन्दावन कहल जाइत अछि। ई मानल जाइत अछि जे वृन्दाक आत्मा रातिमे एहि गाछमे रहैत अछि आ भोरमे ई गाछ छोड़ि दैत अछि। दुल्हिन तुलसी साड़ी आ अलंकरणक साथ पहिरने अछि, जाहिमे कानक बाली आ हार सेहो सम्मिलित अछि। एक मानव कागजक चेहरा एकटा बिन्डी आ नाकक अंगूठीक संग तुलसीमे लगाओल जा सकैत अछि. दूल्हा विष्णु, कृष्णा, बलराम, वा अधिक बार शालिग्राम पत्थर - विष्णु के प्रतीक के एक पीतल के छवि या चित्र है. छवि एक धोती मे पहिरल अछि. विष्णु आ तुलसी दूनू केँ स्नान कराओल जाइत अछि आ विवाह सँ पहिने फूल आ माला सँ सुशोभित कयल जाइत अछि। दंपति समारोहमे कपासक धागा (माला) सँ जुड़ल अछि.[२]

मण्डप

तुलसी (पौधा) पूर्व जन्ममे एक लड़की छल, जेकर नाम वृन्दा छल। राक्षस कुल मे जन्मल ई बच्ची बचपन सँ भगवान विष्णु क भक्त छल। जखन ओ पैघ भेल तखने ओकर विवाह राक्षस कुल मे राक्षस राज जलंधर सँ संपन्न भेल।

राक्षस जलंधर समुद्रसँ उत्पन्न भेल छल। वृन्दा बहुत पतिव्रता स्त्री छलीह, सदिखन अपन पतिक सेवा करैत छलीह। एक बेर देवता आ राक्षससभक बीच युद्ध भेल छल, जखन जलंधर युद्धमे जाए लागल तँ वृन्दा कहलनि.. स्वामी, अहाँ युद्धमे जा रहल छी, अहाँ जखन तक युद्धमे रहब, हम पूजामे बैसि कऽ अहाँक विजयक लेल अनुष्ठान करब। हम अपन संकल्प नहि छोड़ब जाबत धरि अहाँ वापस नहि आबि जाएब।

जलंधर युद्धमे गेल आ वृन्दा व्रतक संकल्प लऽ पूजामे बैस गेल। हुनकर व्रतक प्रभावसँ देवता सेहो जलंधरकेँ पराजित नहि कऽ सकल। जखन सभ देवता हारए लागल तखन सभ विष्णुजी लग पहुँचल आ सभ भगवान सँ प्रार्थना केलक।

भगवान बोले, वृन्दा मेरा परम भक्त है, मैं उससे छल नहीं कर सकता। " एहि पर देवता कहलथिन्ह - "भगवान दोसर उपाय बताबथि, मुदा हमरा सभक मदति जरूर करथि। एहि पर भगवान विष्णु जलंधरक रूप धारण कए वृन्दाक महलमे पहुँचि गेलाह।

वृन्दा अपन पति केँ देखिते पूजा मे सँ उठि कऽ हुनकर पयर छुबि लेलक। एक दिस वृन्दाक संकल्प टूटि गेल, दोसर दिस युद्धमे देवतासभ जलंधरकेँ मारलक आ ओकर माथ काटि कऽ अलग कऽ देलक। जखन जलंधरक काटल सिर महलमे खसल तँ वृन्दा आश्चर्यसँ भगवान दिस तकलनि जे जलंधरक रूप धारण कएने छलाह।

एहि पर भगवान विष्णु अपन रूप मे आबि गेलाह मुदा किछु नहि बाजि सकलाह। वृन्दा क्रोधित भऽ कऽ भगवान केँ श्राप देलनि जे ओ सभ पाथर बनि जाय। एहि सँ भगवान तुरत्ते पाथर बनि गेलाह, सभ देवता मे हाहाकार मच गेल। देवताक प्रार्थनाक बाद वृन्दा अपन श्राप वापस लेलक।

तकर बाद ओ अपन पतिक माथ लऽ कऽ सती बनि गेल। तखन भगवान विष्णुजी ओहि गाछक नाम तुलसी रखलनि आ कहलनि जे हम एहि पाथरक रूपमे सेहो रहब, जकरा शालिग्रामक नामसँ तुलसीजीक संग पूजा कएल जाएत।

एतबे नहि ओ कहलनि जे कोनो शुभ कार्यमे तुलसी जीक भोग बिना किछु स्वीकार नहि करब। तखने तुलसीक पूजा शुरू भेल। कार्तिक मासमे तुलसीजीक विवाह शालिग्रामजीक संग कएल जाइत अछि। संगहि देव-उठावनी एकादशीक दिन एकरा तुलसी विवाहक रूपमे मनाओल जाइत अछि।

एहो सभ देखी

[सम्पादन करी]

सन्दर्भ सामग्रीसभ

[सम्पादन करी]
  1. आर मनोहर लाल (1933). Among the Hindus: A Study of Hindu Festivals. एशियन एजुकेशनल सर्विस. pp. 184–. आइएसबिएन 978-81-206-1822-0. https://books.google.com/books?id=YlqH4Q_gqCQC&pg=PA184. 
  2. Joshi, Yogesh (22 November 2023)। "Tulsi Vivah Vrat Katha : तुलसी विवाह के दिन जरूर करें इस कथा का पाठ, पंचांग-पुराण न्यूज"Hindustan (हिन्दीमे)। मूलसँ 23 November 2023 कऽ सङ्ग्रहित। अन्तिम पहुँच 23 November 2023

बाह्य जडीसभ

[सम्पादन करी]