श्रेणी:संगीतकार

मैथिली विकिपिडियासँ, एक मुक्त विश्वकोश
Jump to navigation Jump to search

सुमन सौरभ(जीवन परिचय)

मिथिला विभूति मुधर्न्य गायक सुमन सौरभक जन्म मिथिलाक दरभंगा जिलाक "मधुप नगर" कोर्थु में 9 फरवरी 1979 कें भेल छल! इ स्व० श्याम किशोर ठाकुर आ शकुन्तला देवीक कनिष्ठ बालक छथि! अदभुत प्रतिभा व्यक्तित्वक धनि छथि!

सन 1995 में सुमन सौरभ, शास्त्रीय गायक आ कवि अम्बोध मिश्र "मगन" जी सँ गायकी विधाक शिक्षा प्राप्त केनाइ प्रारंभ केलनी ! वर्तमान में इ स्थानीय प्राथमिक विधालय, सोनहद(कोर्थु ) में अध्यापन करै छथि!

मिथिलाक इ विभूति मूलतः भगवती गीत सँ अपन झंडा गारने छथि ! हिनक प्रथम ऑडियो कैस्सेट सन 1999 में नीलम कास्सेट्स सँ देवी महिमा आयल छल, जे पूरा मिथिलांचल म धूम मचा देने छल, " छौ पुत्र बड़ बिकल माँ कोरा में तू उठा ले ....." अजय जीक लिखल अहि एल्बमक इ गीत बेस चर्चित रहल ! करीब लाखो सँ बेसी इ कैस्सेट बिकायल छल, मैथिलिक कुनो भी देवी गीतक कैस्सेट, एखेन धरि(प्राप्त जानकारीक मुताबिक) एतेक व्यवसाय नै केलक हा! जे एगो बहुत पैग उपलब्धि अछि! ओकर बाद आयल दोसर कैसेट सिनुर जाहि में जनक जीक लिखल गीत "गर्दन में छुरी लगेलये यो पपा नास केलये........" बेस चर्चित रहल छल , अहि संगे-संग हे दुर्गे मईया, देवी वन्दना, देवी माँ, देवी दर्शन, भगवती आराधना, खोलू नयन मईया, हमर मैया रानी, जय कनियाँ आ दुलरुआ बरुआ इ सब कैस्सेट बेस चर्चित रहल!

मैथिलीक चर्चित कम्पनी नीलम, सती, स-सिरीज, भारती आ जय श्री अहि ठाम स इ गाबि चुकल छथि ! सन 2012 क फरवरी में बहुत दिनक बाद, श्रोताक विशेष मांग पर, मैथिलीक पारंपरिक मुंडन गीतक कैस्सेट बरुआ -दुलरुआ निकाल लैथ, जे बेस चर्चित रहल, पहिले कें भांति इहो कैस्सेट खूब धूम मचौलक ! आशा करै छी अपन अध्याप्नक संग माँ मैथिलीक सेवा अनवरत करैत रहता !!!