कामरान मिर्जा

मैथिली विकिपिडियासँ, एक मुक्त विश्वकोश
Jump to navigation Jump to search
कामरान मिर्जा
Kamran Mirza
मुगल साम्राज्यक शहजादा
Humayun finally defeated his rebellious brother Kamran in Kabul in 1553.jpg
हुमायूँँ अन्ततः १५५३ मे काबुलमे अपन विद्रोही भाई कामरानके हरौलक
जीवनसाथी मिहर अफ्रोज बेगम
मोहतर्मा खानम
माह बेगम
माह चुचुक बेगम
हजारा बेगम
समस्या सुल्तान इब्राहिम मिर्जा
हबिब सुल्तान बेगम
हाजी बेगम
गुलिजार बेगम
गुलरुख बेगम
आइशा सुल्तान बेगम
वंश तिमुरीड
पिता बाबर
माता गुलरुख बेगम
जन्म १५०९
काबुल, मुगल साम्राज्य (वर्तमानमे अफगानिस्तान)
देहान्त अक्टुबर ५, १५५७(१५५७-१०-०५)
मक्का, साउदी अरब
धर्म इस्लाम

कामरान मिर्जा, जकरा कहियो कामरानक रूपमे जानल जाइत छल, (१५०९-५ (या ६ अक्टूबर १५५७) बाबरक दोसर पुत्र छल, मुगल साम्राज्यक संस्थापक आ पहिले मुगल सम्राट कामरान मिर्जाक जन्म काबुलमे बाबरक पत्नी गुलामुख बेगमक भेल छल । ओ बाबर के ज्येष्ठ पुत्र हुमायूँ के सौतेला भाई छल, जे मुगल सिंहासनक पालन करैत छल आ वारिस छल, मुद्दा ओ बाबूके तेसर पुत्र, अस्कारीक भाई छल।

बाबर के शासनकाल के दौरान[सम्पादन करी]

जखन हुनकर पिता, बाबर, १५२५ मे उत्तरी भारत पर विजय प्राप्त केनए छल, कामरान अपन उत्तरी भागक सुरक्षित करवाक लेल कन्धारमे बना रहल छल। मुस्लिम इतिहासकार अबुल फजल के मुताबिक हुमायूँ के आखिरी शब्द "अहाँक भाइसभके विरोधमे किछ भी नै करैत छल, भले ही ओ एकर लायक भ सकैत छल।" ।

भारतमे[सम्पादन करी]

१५३८ मे, कामरान पहिल बेर भारतमे आएल छल, ओकर साथमे १२००० सैनिक सेहो आएल छल, जखन हुमायूँ बंगालमे लडि रहल छल। ओ हुमायूँ के विरुद्ध अपन भाई हिन्डल के विद्रोहसँ हटावे के लेल आएल छल। मुद्दा, सहायता के लेल हुमायूँ के फोन के बावजूद, कामरान हुनका कोनो सहायता नै देलक। हुमायूँ चौसाक लडाईमे पराजयसँ फिर्ता चलि आएल, कामरान हुमायूँ के आदेश के अनुसार अपन सैनिकसभक जगह दै सँ अस्वीकार करि देलक कियाकि ओ स्वयम् के लेल शक्ति लै मे अधिक रुचि रखैत छल। अपन महत्वाकांक्षा के आगा बढावेक कोनो सम्भावना नै देखके, कामरान फेर सँ लाहौर चलि आएल।

हुमायूँं के साथ प्रतिद्वन्द्विता[सम्पादन करी]

शेर शाह १५४० मे कन्नोजक लडाई मे हुमायूँंक पराजय केलक आ उत्तरी भारतक नव शासक बनि गेल। ओ हुमायूँंक भारत छोडै के आदेश देलक, हुमायूँं काबुल गेल, मुद्दा कामरान शहर के अपन भाई के सौंपे के लेल तैयार नै छल। एही मौका पर कामरान हुमायूँं के पाछा-पाछा भ गेल आ शेर शाहक समर्थन करि के पेशकश केलक, मुद्दा उत्तरार्द्ध ओकरासँ बदलामे पञ्जाबके द देलक्। हुनकर पेशकश के अस्वीकार करि देल गेल छल । एही बिन्दु पर हुमायूँं के अपन सलाहकारसभ सँ हुनकर भाई के मृत्युके सजाय दै के आग्रह कएल गेल छल, मुद्दा ओ सेहो अस्वीकार करि देलक।

अपन सिंहासन के फेर सँ लै के अनेकौं विनाशकारी प्रयाससभक बाद, हुमायूँं १५४३ मे सिन्धु के पार करि चलि गेल। हुनका स्वागत करै के अलावा, कामरान अपन छोट भाई अकर्बी के ओकरा पकडै के लेल भेजलक् आ ओकरा काबुल ल आएल। हुमायूँं अपन भाई के चंगुल सँ बचै मे सफल रहल आ पर्शिया शाह ताहमासप आई के शासकमे शरण लै के मांग केलक।

जखन हुमायूँं फारस मे छल, कामरान शाह के कन्धार शहर के पेशकश केलक, मुद्दा ओ अपन भाई के ओकरा पर हाथ रखलक्। शाह ताहमासप हुमायूँं के ई भ्रातृक दल के पक्ष मे पसन्द केलक, आ हुनका सेना के साथ प्रदान केलक, जेकर साथ ओ कामरान के हरौलक्।

काबुलमे संघर्ष[सम्पादन करी]

हुमायूँ १५४५ नवम्बर मे काबुल मे एक रक्तहीन अधिग्रहण मे प्रवेश करवाक मे सक्षम छल, कियाकि कामरानक शासन दमनकारी रहल अछि, आ शहरक जनसंख्या ओकरासँ छुटकारा पावे के लेल उत्सुक छल। अपन लापरवाह उडान के बाद, कामरान दुई बेर काबुलके फेर सँ कब्जा करि लेलक मुद्दा ओ शहरक निवासिसभ के प्रति घृणास्पद व्यक्ति बनल, कियाकि हुनकर शासनकालमे बडका संख्या मे हुनकर विरुद्ध अत्याचार शामिल छल। काबुल सँ अपन तेसर आ आख़िरी निषेध के बाद, कामरान हुमायूँ के दुश्मन, १५५२ मे अफगानिस्तान के राजा इस्लाम शाह के अदालत मे गेल, जतय हुनकर भाई के विरुद्ध गठबन्धन के लेल हुनकर आशासभमे हुनका प्रभावी रूपसँ विद्रोह कएल गेल। इस्लाम शाह हुनका गिरफ्तार करि लेलक आ अपन विश्वसनीय सलाहकार हेमू के काबुलमे कामरान के हुमायूँ सौंपे के लेल नियुक्त केलक।

वास्तुकला[सम्पादन करी]

कामरान द्वारा निर्मित एकमात्र महत्वपूर्ण वास्तुशिल्प संरचना आई पाकिस्तान के लाहौर मे अछि। एकर कामरानक बारदरी कहल जाइत अछि। बार के मतलब बारह आ दार मतलब द्वार अछि। कामरान के बारदारी, नदी के किनारा पर बारह-दरवाजा इमारत छल। नदी समय के साथ अपन बाट बदलि देलक, जेकर परिणामस्वरूप बारदार नदी पर नै खडा छल, मुद्दा एक द्वीप के रूपमे जलमे, जबकि उद्यान बिगडि गएल अछि।

निर्वासन आ मृत्यु[सम्पादन करी]

यद्यपि हुमायूँ अपन विद्रोही भाईके मृत्यु के लेल दबाव के विरोध केनए छल, मुद्दा ओ ई बात के स्वीकार करि देलक कि ओकर बारे मे किछ कएल जाना चाहि ताकि ओ अनिच्छा सँ ओकरा अन्धा करि देलक। हुमायूँ तँ ओकरा मक्का के लेल हज करवाक लेल भेज देलक, जतय हुनका १५५७ मे मृत्यु भ गेल।

परिवार[सम्पादन करी]

सन्दर्भ सामग्रीसभ[सम्पादन करी]

बाह्य जडीसभ[सम्पादन करी]

एहो सभ देखी[सम्पादन करी]