मुरुदेश्वर

मैथिली विकिपिडियासँ, एक मुक्त विश्वकोश
Jump to navigation Jump to search
मुरुदेश्वर
Murdeshwar
शहर
गोपुराक मुरुदेश्वर मन्दिर आ भगवान शिवक प्रतिमा
गोपुराक मुरुदेश्वर मन्दिर आ भगवान शिवक प्रतिमा
Country  भारत
State कर्णाटक
District उत्तर कन्नड जिल्ला
Languages
 • Official कन्नड
समय क्षेत्र आइएसटी (युटिसी+५:३०)
पिन ५८१ ३५०
Telephone code ०८३८५
गाडी दर्ता केए-४७

मुरुदेश्वर कर्टणाक राज्य के भारत कन्नड जिल्ला के भटकल तालुकमे एक शहर छी। मुरुदेश्वर हिन्दू भगवान शिवक दोसर नाम छी। दुनिया के दोसर सभसँ ऊंच शिव प्रतिमा के लेल प्रसिद्ध, ई शहर अरब सागर के तट पर स्थित अछि आ ई मुरुदेश्वर मन्दिर के लेल सेहो प्रसिद्ध अछि। मुरुदेश्वरक मङ्गलोर-मुम्बई कोङ्कण रेल मार्ग पर एक रेलवे स्टेशन छी। ई सेहो कर्णाटकमे एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल छी।[१]

व्युत्पत्ति आ इतिहास[सम्पादन करी]

नाम "मुरुदेश्वर" नामक उत्पत्ति रामायणक समय के छी।

हिन्दू देवतासभ एकटा दिव्य लिङ्ग के पूजा करैत अमरता आ अजेयता प्राप्त केलक, जेकरा आत्मा-लिङ्ग कहल जाइत अछि। श्रीलङ्का के राजा रावण आत्मा-लिङ्ग (शिवक आत्मा) प्राप्त करवाक अमरता प्राप्त करवाक चाहैत छल। मुद्दा आत्म-लिङ्ग श्री महेश्वरक छल, एही लेल रावण भक्ति के साथ शिवक पूजा केलक। हुनकर प्रार्थनासभसँ प्रसन्न भऽ श्री महादेव हुनका समक्ष दर्शन केलक आ हुनकासँ पूछलक् जे ओ कि चाहैत छल रावण आत्मा-लिङ्ग के लेल पूछलक् श्री रुद्र हुनका एही शर्त पर वरदान देए पर सहमत भेल कि लङ्का पहुँचे सँ पहिने एकरा जमीन पर कखनो नै रखल जानाए चाहि। यदि आत्मा-लिङ्ग कखनो भी जमीन पर रखल गेल छल, तँ ओकरा स्थानान्तरित केनाए असम्भव होएत। अपन वरदान प्राप्त करवाक बाद, रावण लङ्का के यात्रा पर फेरसँ शुरू केलक।

नारद के एही घटनाक बारेमे पता चलल, आत्मा के आत्मा के साथ पता चलल कि रावण अमरता प्राप्त करि सकैत अछि आ धरती पर कहर बरसैत अछि। ओ श्री गणेशसँ सम्पर्क केलक आ श्रीलङ्का पहुँचे सँ आत्मा-लिङ्ग के रोकवाक लेल अनुरोध केलक। श्री स्कन्दपुरवाजा जनैत छल जे रावण एक बहुत ही समर्पित व्यक्ति छल, जे बिना प्रत्येक साँझ प्रार्थना शाम पूजा करैत छल। ओ एही तथ्य के उपयोग करवाक निर्णय लेलक आ रावण के आत्मा-लिङ्ग के जब्त करै के एक योजना के साथ आएल।



प्रमुख आकर्षण[सम्पादन करी]

सन्दर्भ सामग्रीसभ[सम्पादन करी]

बाह्य जडीसभ[सम्पादन करी]

एहो सभ देखी[सम्पादन करी]