स्वामी विवेकानन्द

मैथिली विकिपिडियासँ, एक मुक्त विश्वकोश
एतय जाए: भ्रमण, खोज
स्वामी विवेकानन्द
Swami Vivekananda
Swami Vivekananda-1893-09-signed.jpg
विवेकानन्द शिकागोमे,[१]
जन्म नरेन्द्रनाथ दत्त
(१८६३-०१-१२)१२ जनवरी १८६३
कोलकाता, भारत
मृत्यु ४ जुलाई १९०२(१९०२-०७-०४) (३९ वर्ष)
बेलुर मठ, पश्चिम बङ्गाल, भारत
खोजकर्ता छी रामकृष्ण मिसन
गुरू रामकृष्ण परमहंस
दर्शन वेदान्त दर्शन,[२][३] राज योग[३]
कहाई "जागू, आबू, जाबे धरि लक्ष्य प्राप्त नै होए य ताबे धरि नै रुकू"
(अन्य कथन विकिकथनमे )
हस्ताक्षर

स्वामी विवेकानन्द (जन्म १२ जनवरी १८६३, जन्मनाम: नरेन्द्रनाथ दत्त ) ओ हिन्दू दर्शनक प्रखर विद्वान् छल । वेदान्त दर्शनक प्रसिद्ध अध्यात्मिक गुरु स्वामीक वास्तविक नाम नरेन्द्रनाथ दत्त छल । ओ अमेरिकामे रहल शिकागोमे आयोजित सन् १८९३ मे भएल विश्व धर्मा सभामे सनातन हिन्दू धर्मक तर्फसँ प्रतिनिधित्व केनए छल । ओ सनातन धर्मक आध्यात्मिकताद्वारा परिपूर्ण वेदान्त दर्शनके पश्चिमी देशमे अपन वक्तृत्वकलाक बलमे पहुँचेने छल । ओ भक्तिक मूर्तिस्वरुप रामकृष्ण परमहंसक सुयोग्य शिष्य छल । ओ अपन गुरुक नामसँ रामकृष्ण मिसन नामक संस्थाक स्थापना केनए छल । जेकर उद्देश्य गरीब अनाथ दीनहीनक निशुल्क उपचार करनाए छल । जे आईओ देश तथा विदेशमे अपन काम करिरहल अछि । ओ अमेरिकामे भएल भाषणक पहिलो सम्बोधन वाक्यसँ (अमेरिकी भाई तथा बहिनसभ) सभक मन जित्ने छल ।

जीवन[सम्पादन करी]

सन्दर्भ सामग्री[सम्पादन करी]

बाह्य लिङ्कसभ[सम्पादन करी]