सामग्री पर जाएँ

नेवार जाति

मैथिली विकिपिडियासँ, एक मुक्त विश्वकोश
नेवार मानिस
एक नेवार महिला
कुल जनसङ्ख्या
१६,२२,०००[१]
(नेपालक जनसङ्ख्याको ५%)
कुल जनसङ्ख्या धर्मसहित
नेपाल (नेपाल मण्डल)
भाषासभ
नेपाल भाषा, नेपाली
धर्म
[२]
सम्बन्धित जातीय समूह
मैथिल,[३][४] बंगाली,[५][६], राजपुत,[७][८] हिन्द-आर्य नागरिक,[९][१०][११] अन्य भोट-बर्मेली भाषीहरू

नेवाः शब्दसँ नेपालक एकटा मूलबासी भाषिक समुदायकें भुझल जाएत अछि । नेवाःसभक मूल वासस्थान काठमाडौं उपत्यका छी । [१२] नेवाः कोनो जाति, जनजाति, नश्ल या धर्म विषेश नै छी । नेवाः एकटा भाषिक समुदाय सेहो छी, नेपाल-वासी (अखनक काठमाडौं उपत्यका) कें साझा संस्कृति छी । नेवाः भितर बहुतो मूल-जातिसभ अछि - (मैथिली, कन्याकुब्ज, बङ्गाली, राजस्थानी, आसामी, तिबत्ती, आदि)। नेवाः भितर सनातन धर्म अन्तर्गतक बहुत सम्प्रदायसभ अछि - (शैव, शाक्त, तान्त्र, वैदिक, वज्रयान, महायान, नाथ, वैश्नव, आदि) । नेवाः भितर ४ जाति-वर्ण (ब्राह्मण, क्षत्रीय, वैश्य, शुद्र) आ ई भितर बहुतो उप-जातिसभ रहल अछि (ज्यापू, श्रेष्ठ, क्षत्रीय, गुभाजू, उराय, सायमी, राजोपाध्याय, नाय, गथु, भा, द्यला, आदि)। ताहिना नेवाः भितर मूलत: 2 समुदाय होएत अछि - आर्य, द्रविड।

नेवाः समुदाय साँस्कृतिक रूपसँ बहुत सम्पन्न जाति छी। नेवार या नेपामी नेपाल के काठमांडू उपत्यका आ ओकर आसपास के क्षेत्र के ऐतिहासिक निवासी आ एकर ऐतिहासिक धरोहर आ सभ्यता के निर्माता छैथ। नेवार लोकनि मुख्यतः भारत-आर्य आ तिब्बती-बर्मी जातीय समूहक भाषाई आ सांस्कृतिक समुदायक रूप मे हिन्दू आ बौद्ध धर्मक अनुसरण करैत नेपाली केँ अपन साझा भाषा बनबैत छथि। नेवार लोकनि श्रम विभाजन आ हिमालय मे अभूतपूर्व एकटा परिष्कृत शहरी सभ्यता विकसित केने छथि। नेवार लोकनि अपन पुरान परंपरा आ प्रथा केँ जारी रखैत छथि आ नेपालक धर्म, संस्कृति आ सभ्यताक सच्चा संरक्षक हेबाक गर्व करैत छथि। नेवार लोकनि संस्कृति, कला आ साहित्य, व्यापार, कृषि आ भोजन मे अपन योगदानक लेल जानल जाइत छथि ।आइ यूएनडीपी द्वारा प्रकाशित वार्षिक मानव विकास सूचकांकक अनुसार हुनका लोकनि केँ नेपालक आर्थिक आ सामाजिक रूप सँ सबसँ उन्नत समुदायक रूप मे स्थान देल गेल अछि। नेपाल केरऽ २०११ केरऽ जनगणना म॑ ई देश केरऽ छठमऽ सबसें बड़ऽ जाति/समुदाय के रूप म॑ दर्ज करलऽ गेलऽ छै, जेकरा म॑ देश भर म॑ १,३२१,९३३ नेवार छै।

नाम,व्युत्पति[सम्पादन करी]

"नेपाल", "नेवार", "नेपाल" आ "नेपार" शब्द ध्वन्यात्मक रूप सँ एकहि शब्दक भिन्न-भिन्न रूप अछि, आ इतिहासक विभिन्न समय मे अलग-अलग ग्रन्थ मे अबैत अछि। नेपाल एक साहित्यिक संस्कृत रूप छै आरू बोललऽ जाय वाला नेवार प्राकृत रूप छै। "नेपाल के निवासी" के लेलऽ "नेवार" या "नेवा:" शब्द सबसें पहलऽ काठमांडू के १६५४ के एगो शिलालेख में आबै छै। एक इटालियन जेसुइट जे... १७२१ मे नेपाल गेल पुरोहित इप्पोलिटो डेसिडेरी (१६८४-१७३३) लिखने छथि जे नेपालक निवासी केँ नेवार कहल जाइत छल। ई सुझाव देल गेल अछि जे "नेपाल" "नेवार" भ' सकैत अछि, वा "नेवार""नेपाल" बादक रूप भ' सकैत अछि.अर्को केरऽ व्याख्या के अनुसार "नेवार" आरू "नेवारी" शब्द र केरऽ पा स॑ वा आरू ल म॑ उत्परिवर्तन स॑ निकललऽ बोलचाल केरऽ रूप छेकै।

अंतिम व्यंजन छोड़ि स्वर केँ लम्बा करबाक ध्वनि प्रक्रियाक परिणामस्वरूप नेवार वा नेवालक लेल "नेवा" आ नेपाल लेल "नेपा" केर प्रयोग सामान्य बोली मे होइत अछि।

इतिहास[सम्पादन करी]

दू सहस्राब्दी स॑ भी अधिक समय तलक मध्यकालीन नेपाल केरऽ नेवा सभ्यता न॑ शास्त्रीय उत्तर भारतीय संस्कृति केरऽ सूक्ष्म दुनिया क॑ सुरक्षित रखलकै जेकरा म॑ ब्राह्मण आरू बौद्ध तत्वऽ क॑ बराबर के दर्जा मिललै। उत्तर (तिब्बत) आ दक्षिण (तिरहुत) दुनू सँ लोकक आवागमन सँ नेपालक आनुवंशिक आ जातीय विविधता त बढ़ल अछि, नेवार लोकनिक प्रमुख संस्कृति आ परंपरा केँ सेहो बहुत आकार देलक अछि।

काठमांडू उपत्यका आ उत्तरी क्षेत्रसँ पूर्व नेवार राज्य नेपाल मण्डलक निर्माण भेल। नेपालक अन्य सामान्य जातीय वा जातिगत समूहक विपरीत नेवार लोकनि केँ अवशेष पहिचान वाला राष्ट्र समुदायक उदाहरण मानल जाइत अछि, जे जातीय रूप सँ विविधतापूर्ण छल, जे पूर्व विद्यमान राजनीति सँ उत्पन्न छल। प्रागैतिहासिक काल सँ नेपाल मंडल मे रहनिहार विभिन्न समूहक वंशज होयबाक कारणे नेवार समुदाय मे विभिन्न जातीय, जातिगत, जातीय आ धार्मिक मतभेद अछि। लिच्छवी, कोसल आ मल्ल सन भारत-आर्य जनजाति अंततः अपन भाषा अपना लेलक आ विभिन्न काल मे आयल संबंधित भारतीय महाजनपद (अर्थात वज्जी, कोसल आ मल्लक लिच्छवी) सँ स्थानीय जाति मे विलीन भ गेल। तथापि ई जाति सब अपन वैदिक संस्कृति के कायम रखलक आ अपन संस्कृत भाषा, सामाजिक संरचना आ हिन्दू धर्म के अनलक जे स्थानीय संस्कृति के संग आत्मसात भ गेल आ वर्तमान नेवार सभ्यता के जन्म देलक। नेवारक विभाजन मे विभिन्न ऐतिहासिक विकास भेल। नेवारक साझा पहिचान काठमांडू उपत्यका मे बनल छल ।१७६९ मे गोरखा साम्राज्य द्वारा घाटी पर विजय प्राप्त करबा धरि जे कोनो समय एहि घाटी मे बसल छल, ओ सब या त नेवार छल या ओकर पूर्वज छल। अतः नेवारक इतिहास आधुनिक नेपाल राज्यक स्थापनासँ पूर्व काठमांडू उपत्यकाक इतिहाससँ संबंधित अछि।

उपत्यका मे नेवारक शासन आ पड़ोसी क्षेत्र मे ओकर संप्रभुता आ प्रभाव पृथ्वी नारायण शाह द्वारा स्थापित गोरखा राज्य द्वारा 1769 मे काठमांडू उपत्यका पर विजयक संग समाप्त भेल। नेवार राज्यक सिमाना तिब्बत पूर्व मे किरात राज्य आ त्रिशूली नदी मे पश्चिम, जे एकरा गोरखा राज्य सँ अलग क' देलक।

जात वर्गीकरण[सम्पादन करी]

नेवार लोकनि नेपालक आन सभ जातीय समूहसँ भिन्न एकटा नृवंशभाषिक समुदाय छी। नेवा समुदाय व्यवसाय के आधार पर जाति, जाति आ उपाधि में बंटल अछि। नेवार लोकनि अपन प्राचीन वंशानुगत व्यवसायक आधार पर विभिन्न अंतरविवाहित कुल वा समूह मे विभाजित छथि, जे वैदिक जाति व्यवस्था पर आधारित अछि। यद्यपि एकर शुरुआत लिच्छवी काल मे भेल छल मुदा वर्तमान नेवार जाति व्यवस्था मध्यकालीन मल्ल काल मे अपन वर्तमान रूप लेलक।

1. द्यः ब्राह्मण या राजोपाध्याय - हिन्दू वैदिक ब्राह्मण वर्ग, कन्याकुब्ज ब्राह्मण के वंशज, जिसके तहत उपनाम - राजोपाध्याय, शर्मा, आचार्य, शुक्ल, सुवेदी

2.तिरहुतबाजे या झाबाजे - हिन्दू मंदिर पुरोहित, मैथिल ब्राह्मण के वंशज, जिसके उपनाम - मिश्र और झा

3.आचाजू या कर्माचार्य - हिन्दू तांत्रिक मंदिर के पुजारी, जो बारी-बारी से छठरी-श्रेष्ठ के तहत

4.जोशी - ज्योतिषी, स्थल कुंडली, छठरी-श्रेष्ठ के अंतर्गत विवाह

5. गुभाजु या बज्राचार्य या बुद्धाचार्य - बौद्ध पुरोहित एवं मंदिर पुरोहित के वर्ग

6. वरेजू या शाक्य - बौद्ध मंदिर पुरोहित एवं सोना चांदी के गहना निर्माता, कपिलवस्तु के शाक्य के वंशज

7. छठरी/क्षत्रिय-श्रेष्ठ - मल्ल काल के हिन्दू क्षत्रिय शाही एवं भारदरी समूह, सरकारी/प्रशासनिक एवं जमींदारी व्यवसाय को अपने पेशे के रूप में।राठौर, प्रधानांग, नेमकुल, गोंगल, मुलेपति, रघुवंशी,राजवंशी,पत्रवंशी, छठरी-तह के श्रेष्ठ आ कतेको आन

8. पंचथरी-श्रेष्ठ वैश्य-वर्ण स्तर के श्रेष्ठ, व्यापार आ प्रशासन के अपन पेशा मानल गेल अछि, बहुत उपनाम मुदा प्रायः सर्वश्रेष्ठ लेखन, थिमी, भक्तपुर, बनेपा, धुलिखेल, दोलखा, नुवाकोट, आदि सर्वश्रेष्ठ

9. उदय/उदास - वैश्य - काठमांडू के बौद्ध जे व्यापार आ व्यवसाय के अपन पेशा निर्माता), कारीगर, सेलालिक (मिठाई), संस्थापक (मिस्त्री) मानैत आबि रहल छथि

10. ताम्रकार - पाटन आ भक्तपुर के हिन्दू जे वैश्य के व्यापार करैत छल आ ताम्र के काज करैत छल

11. बाराही,शिल्पकार - वैश्य-व्यापार एवं बढ़ई पाटन एवं भक्तपुर के हिन्दू

12. ज्यापु - प्रायः कृषि कार्य मे लागल , एहि व्यावसायिक उपकुलक अंतर्गत - महर्जन , डंगोल , सुवाल , सिन , दुवाल , तांदुकर , बलामी , आ कतेको अन्य

13.अवाले, अवा - ईंट, ज़िंगटी, टाइल पोल्ने

14. कुमाल,प्रजापति - माटिसँ किरायेदारक घर बनाबए

15.हलुवाई - मिठाई, इस नाम से - माधिकर्मी, राजकर्णिका,

16. सालमी या मनन्धर - तोरी के तेल निकालने वाला, तेल के व्यवसाय

17. माली या वनमाली- माली, माला

18. नकर्मी - फलदायी कार्य करना

19.नापित वा नौ - खोपड़ी वा केश कटब

20. चित्रकार वा पुं - चित्र चित्रित करयवला आ कोठलीक चित्रण करयवला

21.रंजितकार - रंगब वा नुकाबय - कपड़ा रंगक

22. डाली वा पुतुवार - पाल नाव लऽ कऽ चलब

23. कुलू - एकटा एहन वर्ग जे त्वचाक काज करबासँ पहिने अछूत मानल जाइत छल

24. पोडे - सिर-साफ करय वाला, पहिने अछूत वर्ग मानल जाइत छल, एहि उपनाम के तहत - सोनार, ड्योला

25.च्यामे - सफाईकर्मी, पहिने अछूत मानल जाइत छल

26. भा वा कारंजीत - हिन्दू नेवा : मृत्यु संस्कारक विशेष पुरोहित, महा-ब्राह्मण कहल जाइत छथि, प्रथम जल-नृत्य विश्वास वर्ग।

27 खड्गी/शाही - मांसक व्यापार आ नै वाद्ययंत्र बजबैसँ पहिने जल-मुक्त मानल जाएबला वर्ग, जकर उपनाम - खड्गी, शाही, कसाई

संस्कृति[सम्पादन करी]

विस्तृत अनुष्ठान नेवार के जन्म से मृत्यु तक के जीवन चक्र के वर्णन करते हुए नेवार जीवन चक्र संस्कार को मृत्यु और उसके बाद के जीवन की तैयारी के रूप में मानते हैं। हिन्दू आ बौद्ध दुनू गोटे हिन्दू के जीवन में "कर्म के सोलह संस्कार" यानी अनिवार्य मार्ग के १६ पवित्र संस्कार करैत छथि। १६संस्कार १० मे घटा कए "१० कर्म संस्कार" कहल जाइत अछि। एहि मे कोनो व्यक्तिक जीवनक महत्वपूर्ण घटना जेना "जातकर्म", "नामकरण", "अन्नप्रासन" शामिल अछि। "व्रतबंध" या "केता पूजा", "विवाह", जानकवा आदि।

अन्नप्राशन (मचा जङ्को)

ई चाउर खुआबय के समारोह अछि। बिलाड़ि कें लेल छह-आठ महीना कें उम्र मे आ बिलाड़ि कें लेल पांच-सात महीना कें उम्र मे कैल जायत छै.

व्रतबन्ध (कयेता पूजा)

नेवार लोकनि उपनयन समारोह करैत छथि, जे ब्रह्मचर्यक संस्कार थिक - जीवनक चारि पारम्परिक चरण मे पहिल चरण। संस्कार के दौरान युवा केता ब्रह्मचर्य धार्मिक जीवन के लेल परिवार आ वंश के बलिदान दैत छथि। पहिल/नारंगी रंगक पोशाक पहिरबाक चाही, अपन परिजनसँ चाउर माँगबाक लेल दुनिया भरि घुमबाक लेल तैयार रहबाक चाही। एक बेर ई तपस्वी आदर्श प्रतीकात्मक रूप स पूरा भ गेल त हुनका अपन परिवार द्वारा वापस बजाओल जा सकैत अछि जे ओ एकटा गृहस्थ के जीवन आ पति आ पिता के रूप में अपन अंतिम कर्तव्य के ग्रहण क सकैत छथि। द्विजन्म (ब्राह्मण आ क्षत्रिय) नेवार - राजोपाध्याय आ छठरिया - आगू उपनयन दीक्षा लैत छथि जतय केता केँ अपन जनै (संस्कृत: यज्ञोपवीत) आ गुप्त वैदिक मंत्र भेटैत छनि। -ऋग्वेद.3.62.10 (ब्रह्म गायत्री मंत्र) नेवार ब्राह्मण के लेल, -ऋग्वेद.1.35.2 (शिव गायत्री मंत्र) छथरी-श्रेष्ठ के लेल। जातीय दायित्व के निर्वहन के दायित्व आ कर्म के प्रचलन कहल गेल अछि।

इहि (बेलविवह)

ई एकटा एहन समारोह अछि जाहि मे किशोरी के भगवान विष्णु के प्रतीक सुवर्ण कुमार सं "विवाह" कयल जाइत अछि। बाद में जखन केटी के पति के मृत्यु भ जाय छै त ओकर विवाह विष्णु सं भ जाय छै, जेकरा विधवा नै मानल जाय छै आ मानल जाय छै कि ओ जीवित छै, कियाकि ओकर पति पहिने सं जीवित छैथ।

बार्हा

केटी केरऽ एगो आरू औपचारिक संस्कार छै जेकरा बरहा तायेगु कहलऽ जाय छै, जेकरऽ बाद केटी के किशोरावस्था में पहुँचलऽ मानलऽ जाय छै। एहि मास स पहिने विषम संख्या छल जेना 7, 9 । 12 दिन धरि एक कोठली मे राखल जाइत अछि आ 12म दिन सूर्य देवता सूर्य सँ विवाह कयल जाइत अछि।

विवाह

विवाह एकटा एहन समारोह अछि जे स्त्री आ पुरुष दुनूक साझा होइत अछि। नेवारक प्रथा सेहो अछि जे विवाह मे कनियाँ प्रायः अपन घर छोड़ि अपन पतिक घर जा कए अपन पतिक कुल नाम अपना लैत छथि। विवाह प्रायः माता-पिता द्वारा कयल जाइत अछि आ लमीक प्रयोग होइत अछि।

जंको

नेवार के बुढ़ापा के बाद जानको करय के प्रथा छै। अपन परिवार, समाज आ देश के लेल बहुत किछु केलथि अछि आ हम सब हुनका उच्च सराहना के संग सम्मानित करब आ हुनकर सुस्वास्थ्य आ दीर्घायु के कामना करब। सांस्कृतिक मान्यताक अनुसार एतेक दीर्घायु जीलाक बाद व्यक्ति देवता जकाँ भ' जाइत अछि आ ओहि अवसर पर ई कार्यक्रम होइत अछि । तेँ बुजुर्ग लोकनिक बात मानबाक प्रयास करैत छथि । ओ सभ एहन काज नहि करैत छथि जे हुनका सभ केँ चोट पहुँचाबय। बुढ़ापा तक बूढ़ा के उम्र के अनुसार दोहरी कबाड़ के स्थल। ओ मात्र बूढ़ छलीह आ उम्रक हिसाबे हुनका दिस तकैत छलीह । मुदा जँ पहिने बूढ़क संग रहलहुँ अछि तँ फेर ई काज नहि करए पड़त। थरिथरीक बुजुर्ग लोकनि विश्वास एथि भ' गेल छथि।

क) भीम रथरोहन (प्रथम जंको) - आयु : 77 वर्ष, 7 महीने, 7 दिन, 7 घण्टे, 7 पाल।

ख) चन्द्र रथरोहन (द्वितीय जंको) - जन्म के बाद 82 वर्ष के उम्र के दिन चंद्रमा के हजार बेर प्रकट होइत अछि, लाखों रोशनी जराओल जाइत अछि।

ग) देवा रथरोहन (तेशरो जानको )- आयु : ८८ वर्ष, ८ महिना, ८ दिन, ८ घण्टा, ८ पाल। एहि समय मे रथ यात्राक बाद खिड़की सँ जे बूढ़ वा महिला मरि गेल छथि ओकर परिचय खिड़की सँ कराओल जाइत छैल।

घ) दिव्य आरोहण (चौथा जंको) - आयु : 99 वर्ष, 9 महीने, 9 दिन, 9 घण्टा, 9 पाल। जे पुरान लोक एखनो जीवित अछि ओकरा नव-नव घाम मे राखि पूजा कयल जाइत छैक। तकर बाद घाम्पो फाटि कऽ हटा देल जाइत अछि जेना बच्चाक पुनर्जन्म भेल हो । एहि समय लंगड़ा केँ रथ मे घुमाओल जाइत छैक। पोता-पोती रथ खींचैत छथि आ बेटा-पुतोहु लावा छिड़कैत छथि । एहि समयक रथ केँ दिव्य रथ कहल जाइत छैक।

ङ) महादिव्य रथरोहण (पाँचम जंको) - आयु : १०८ वर्ष, ८ महिना, ८ दिन, ८ घण्टा, ८ पाल। रथ के नाम महादिव्य रथ राखल गेल अछि एहि कामना के लेल जे आठम दिन लेला पर कोनो अधलाह नहि हो।

नेवाः चाडपर्व आ जात्रासभ[सम्पादन करी]

बिस्काः जात्रा

नेवा समुदाय मे ई पावनि गाथामुग सँ शुरू होइत अछि आ सिठी नख सँ समाप्त होइत अछि । गाथामुग : तखन गुनहुपुन्ही (गैजात्रक ९ दिन), मोहनी (दशैँ), स्वति वा न्हुदं (नववर्षोत्सव), माघे संक्रांति, श्रीपञ्चमी, सिलचहरे (शिवरात्रि), चैत्रदशैन, पहाँचह्रे, भोतोजात्रा, बुद्धजयंती, आदि अछि मनाओल जाइत अछि। नेवार धार्मिक संस्कृति आ साल भरि उत्सव स भरपूर अछि। बहुतो पाबनि हिन्दू आ बौद्ध पावनि आ चाउर चक्र सँ जुड़ल अछि। अन्य पावनि परिवारक भोज आ पूजाक संग मनाओल जाइत अछि। चन्द्रमाक पंचांगक अनुसार पावनि-तिहार होइत अछि, तेँ साल दर साल तिथि भिन्न-भिन्न भ' सकैत अछि। मोहनी (दसैँ) सबसँ पैघ वार्षिक पावनि मे सँ एक अछि जे कतेको दिन धरि भोज, धार्मिक अनुष्ठान आ तीर्थयात्राक संग मनाओल जाइत अछि। स्वंती (दीपावली) के समय नेवार लोकनि नेपाल संवत के नव वर्ष म्हा पूजा करैत छथि, जे तंत्र परम्परा के अनुसार एकटा संस्कार अछि जाहि में हम सब अपन शरीर के पूजा करैत छी, जे आगामी वर्ष के लेल आध्यात्मिक रूप स शुद्ध आ बलिदान के लेल मानल जाइत अछि। भाइ-बहिनक समय मे सेहो एहने होइत छैक। मुख्य पावनि सपारू छै, जखन पिछला साल परिवार के सदस्य के गंवा चुकल लोक गाय आ संत के कपड़ा पहिरैत छैथ, आ शहर के बीच स कोनो विशेष मार्ग पर यात्रा करैत छैथ। किछु मामला मे असली गाय सेहो छायाक हिस्सा भ सकैत अछि। लोक प्रतिभागी सब के पैसा, भोजन आ अन्य उपहार दान करैत छथि। प्रायः केताकेती जात्रा मे भाग लैत छथि।

जात्रा अपन स्थानीयताक अनुसार अलग-अलग तरहेँ मनाओल जाइत अछि। काठमांडू मे इन्द्र जात्रा, सेटो मछेन्द्रनाथ जात्रा, पाटन मे रातो मत्स्यन्द्रनाथ जात्रा, भक्तपुर मे बिस्का जात्रा, कीर्तिपुर मे न्ह्यगाँ जात्रा, खोकना मे हाँडीगौन जात्रा, खोकना मे सिकाली जात्रा, चंदेश्वरी जात्रा आ बनेपा मे फार्पिंग जात्रा मनाओल जाइत अछि। काठमांडू केरऽ सबसें बड़ऽ जात्रा यन्याह (इन्द्रजात्रा) छै, जब॑ जीवित देवी कुमारी आरू दू अन्य देवता गणेश आरू भैरव केरऽ तीन रथ क॑ तानलऽ आरू मुखौटा लगाय देलऽ जाय छै। भक्तपुर के सबस पैघ जात्रा आ पावनि बिस्का जात्रा अछि जे रथ यात्रा अछि आ नौ दिन तक चलैत अछि। हिन्दू पंचांग के अनुसार चैत्र मास के चतुर्दशी (पिशाच चतुर्दशी) के मनाओल जाइत अछि। जनबहाद्य : जात्रा के अवसर पर जात्रा के तीन दिन तक करुणामाय के मूर्ति के साथ रथ में लऽ जायलऽ जाय छै । संगहि विभिन्न नेवार शहर आ गाम मे स्थान-विशिष्ट पावनि होइत अछि जे रथ वा खतर ल क मनाओल जाइत अछि।

ललितकला[सम्पादन करी]

चण्डिकाक चित्र, जून मोहनि पर्व सँ पहिने चित्रकार द्वारा बनाओल गेल अछि

नेवा समुदाय मे ललित कला के अपन पहचान भ सकैत अछि। नेवार लोकनि नेपालक कला आ वास्तुकला केर अनेक उदाहरणक निर्माता छथि। पारम्परिक नेवार कला अनिवार्य रूप सँ धार्मिक ललित कला अछि। नेवार भक्तिपूर्ण पौभा चित्रकला, मूर्तिकला आ धातुक मूर्तिकला अपन उत्कृष्ट सौन्दर्यक लेल विश्व प्रसिद्ध अछि। पौभाक सबसँ पुरान ज्ञात तिथि वसुन्धरा मंडल अछि, जे जून 1365 ई. मे चित्रित भेल छल। नेपालक पूर्व हिमालय चित्र दू टाक देबाल पर मुस्ताङ्ग-राज्यसं के 15वीं सदी के गुंबद में काठमांडू घाटी के बाहर नेवार के कृति के चित्रण छै। पाथर के मूर्ति, लकड़ी के नक्काशी, ललित कला आरू बौद्ध आरू हिन्दू देवता के धातु के मूर्ति नेवार कला के उत्कृष्ट उदाहरण छै। भक्तपुर के म्हयखा ज्याल आ काठमांडू के देसे माडू ज्यल अपन लकड़ी के नक्काशी के लेल जानल जाइत छथि।

नक्काशीदार नेवार खिड़की, मंदिरक छत आ मंदिरक टिम्पेनम आ तीर्थ घर जेहन वास्तुकला तत्व पारंपरिक रचनात्मकताक प्रदर्शन करैत अछि। सातवीं शताब्दी केरऽ आरंभ स॑ ही आगंतुकऽ क॑ तिब्बत आरू चीन केरऽ कला प॑ अपनऽ प्रभाव छोड़ै वाला नेवार कलाकार आरू कारीगरऽ के हुनर ​​याद आबी रहलऽ छै। तिब्बती चित्रकला के नाम सँ जानल जाय वाला थांका के उत्पत्ति वास्तव में पौभा चित्रकला छै, जे नेवा ललित कला के तहत विकसित भेलै। शुरू मे ई पौबा केवल काठमांडू उपत्यका मे बनल छल आ तिब्बती बौद्ध समुदाय एकरा काठमांडू सँ आयात करैत छल। समयक संग तिब्बती कलाकार लोकनि कें नेवा कलाकार लोकनि द्वारा प्रशिक्षित कयल गेलनि आ बाद मे एकर निर्माण तिब्बत मे भेलनि। नेवार लोकनि हेरायल मोमक तकनीक केँ भूटान अनलनि आ हुनका लोकनि केँ अपन मठक देबाल पर भित्ति चित्र बनेबाक काज देलनि।

पारम्परिक धार्मिक कला में उच्च स्तरीय कौशल के प्रदर्शन के अलावा नेवार के कलाकार सब नेपाल में पाश्चात्य कला शैली के प्रस्तुति में सबस आगू छैथ। चित्रकार राजमन सिंह (1797-1865) क॑ देश म॑ जल रंग चित्रकला केरऽ शुरूआत करै के श्रेय देलऽ जाय छै । भजुमन चित्रकार (1817-1874), तेज बहादुर चित्रकार (1998-1971) आरू चंद्रमन सिंह मास्के अन्य अग्रणी कलाकार छेलै जे प्रकाश आरू परिप्रेक्ष्य के अवधारणा के समावेश करी क॑ आधुनिक शैली के चित्रकला के प्रस्तुति करलकै ।


वास्तुकला[सम्पादन करी]

काठमाडौं दरबार सक्वायर
मिओयिंग मन्दिर,चिनमे एक नेवारी वास्तुकला

काठमांडू उपत्यकामे सातटा यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल आ २५०० मंदिर आ तीर्थ अछि जे नेवार कारीगरक कौशल आ सौंदर्य भावनाकेँ दर्शाबैत अछि। नेवार वास्तुकला में महीन ईंट के काम आरू लकड़ी के नक्काशी छै। आवासीय घर, भिक्षु के आँगन, विश्राम घर, मंदिर, स्तूप, पुरोहित के घर आरू दरबार, जेकरा आवासीय घर के नाम से जानलऽ जाय छै, घाटी में मिलै वाला विभिन्न वास्तुशिल्प संरचना छै । एकरऽ बहुत सारा प्रमुख स्मारक काठमांडू, ललितपुर आरू भक्तपुर केरऽ दरबार चौक म॑ स्थित छै, जे १२वीं आरू १८वीं शताब्दी के बीच बनलऽ पुरानऽ राजदरबार परिसर छेकै।

नेवा वास्तुकला मे पगोडा, स्तूप, चोटी, चैत्य आ अन्य शैली शामिल अछि। घाटी केरऽ ट्रेडमार्क बहु-छत वाला पैगोडा छै जेकरऽ उत्पत्ति ई क्षेत्र म॑ होय सकै छै आरू भारत, चीन, इंडोचाइना आरू जापान म॑ भी फैललऽ होय सकै छै। चीन आरू तिब्बत के शैलीगत विकास क॑ प्रभावित करै वाला सबसें प्रसिद्ध कारीगर छेलै अर्निको, एगो युवा नेवार जे १३वीं सदी ई. म॑ कुबलाई खान के दरबार के यात्रा करलकै। हुनका बीजिंग केरऽ मियाओइंग मंदिर म॑ सेटो स्तूप के निर्माण लेली जानलऽ जाय छै।

नाच[सम्पादन करी]

अनुष्ठान नृत्यक पुस्तिका, लगभग १७३०
नरदेवी नाचमे इन्द्रायणी

नेवा समुदाय विभिन्न प्रकारक नृत्य नृत्य करैत अछि । अधिकांश नृत्य देवी-देवताक होइत अछि । नेपालक सबसँ लम्बा तीर्थयात्रा रातो मचिन्द्रनाथ जनक सेहो नेवार लोकनि पाटन मे मनाबैत छथि। जात्रा एक मासक होइत अछि आ एहि मे विभिन्न पाबनि-तिहारक आयोजन होइत अछि। एकरा द्यः प्याखं के नाम से जानल जाय छै, जे ख्वाप के प्रयोग के बिना धार्मिक नृत्य छै, जे चचा प्याखं (संस्कृत में चर्या नृत्य) के नाम से जानल जाय वाला संस्कार आरू ध्यान अभ्यास के हिस्सा के रूप में प्रस्तुत करलऽ जाय छै। दबू प्याखं के नाम स जानल जाय वाला मुखौटा नृत्य नाटक सेहो अछि, जाहि में संगीत के संग धार्मिक कथा प्रस्तुत कयल गेल अछि। एहि मे लखे नृत्य सबसँ रोचक अछि। ई नृत्य उपत्यका के विभिन्न भाग में गुला उत्सव में आ काठमांडू में इन्द्र जात्रा के समय में कयल जाइत अछि। नवदुर्गा नृत्य भक्तपुर, बनेपा, नाला, धुलिखेल, पनौती, संग, देवपट्टन आदि स्थान पर कयल जाइत अछि। लोक नृत्य मे मंद नृत्य, फकंदली प्याखं, गैचा प्याखं, आ कलाली प्याखं शामिल अछि । मंद धुन पर नृत्य मंद नृत्य होइत अछि ।

संगित[सम्पादन करी]

गुंलाबाजं बजावत

पारम्परिक नेवा संगीत मे भक्ति गीत, मौसमी गीत, भाका गीत आ लोकगीत शामिल अछि। एकटा लोकप्रिय मौसमी गीत अछि सितला माजू। गीतमे १९म शताब्दीक प्रारंभमे काठमांडूसँ बच्चा सभकेँ निष्कासनक वर्णन अछि। एकटा आओर मौसमी गीत "सिलू" गोसाईकुंडाक तीर्थयात्राक विषय मे अछि। "जि वया ला लछि मदुनी" नव विवाहित जोड़ी के बारे में एकटा त्रासदी गीत अछि। अभागल प्रेमी-प्रेमिका पर आधारित लोकगीत राजमती व्यापक रूप सँ लोकप्रिय अछि। 1908 मे गुरु सेतुराम श्रेष्ठ एहि गीतक पहिल रिकार्डिंग कोलकाता मे ग्रामोफोन डिस्क पर केलनि।संगीत शैली आ वाद्ययंत्र आइयो प्रचलन मे अछि। संगीतक समूह धार्मिक जुलूसक संग होइत अछि जाहि मे देवताक मूर्ति केँ रथ वा खच्चर पर राखि शहर मे घुमाओल जाइत अछि। भक्ति गीत भजन के नाम स जानल जाइत अछि, जे सामुदायिक घर में नित्य गाओल जाइत अछि। ज्ञानमाला भजन खाल जस्ता भजन समाज नियमित रूप स पाठ करैत अछि। मंदिर चौक आ पवित्र चौक में भजन गायन के मौसम में दाफा गीत गाओल जाइत अछि। गुंला बाजन नेपाल पंचांग के दसम मास गुंला के दौरान गली, मंदिर आ चैत्य में संगीत संघ, नेवार बौद्ध के लेल पवित्र मास पैट्रो। संगीत प्रस्तुति केरऽ शुरुआत एक जुलूस स॑ होय छै जे देवता सिनी क॑ अभिवादन करै के प्रतीक छै।मौसमी गीत आरू गीत विशेष मौसम आरू उत्सव स॑ जुड़लऽ छै। विवाह, सोलह संस्कार आ अंतिम संस्कार मे सेहो संगीत बाजल जाइत अछि।

नेवा जाति के प्रमुख वाद्ययंत्र कहां, क्वातह, धीमे, प्वंगा, कांता दबदब, पैताखिं, मुहाली, कुकुवे, पचिमा, तिंचू, भूस्याह, वाय, खिं, कोंचा खिं, आदि अछि।

लोकप्रिय पारम्परिक गीत

  • घाटू (ग्रीष्मकालीन संगीत, ई मौसमी धुन पहाँ चर्हे पावनि मे बाजल जाइत अछि)
  • जि वया ला लछि मदुनी (व्यापारी के त्रासदी) *मोहनी (मोहनी महोत्सव के दौरान ई मौसमी धुन बजैत अछि)
  • राजमती (युवा प्रेमी-प्रेमिका के बारे में)
  • सिलू (तीर्थ यात्रा पर करीब एक जोड़ी, ई मौसमी संगीत मानसून मे बाजल जाइत अछि)
  • सितला माजू (काठमांडू उपत्यका सँ विस्थापित बच्चा सभक लेल विलाप)
  • स्वे धका स्वैगु मखु (प्रेम के बारे में गीत)
  • अबिरया होली (होली गित)
  • होलिया मेला (होली गित)
  • वल वल पुलु किशी (इन्द्र जात्रा मे गाबैत छथि)
  • योमरी चाकू उके दुने हाकू (योमारी पूरा गाबैत छथि)
  • धंग मरू नि भम्चा (पति के लापरवाही के शिकायत करय वाला पत्नी के गीत।)
  • सिरसाया हेगु

धार्मिक संगीत[सम्पादन करी]

  • गुंला बाजन
  • मालश्री धुन
  • दाफा भजन

परिकार[सम्पादन करी]

यःमरि

नेवार भोजनक अनेक प्रकार होइत अछि । पाबनि-तिहारक अनुसार विभिन्न प्रकारक व्यंजन बनाओल जाइत अछि। योमरि, लाखामरि, गोलामरि, चतामरि केर अनेक प्रकार होइत अछि। नेपाल मे सबसँ बेसी भोजन नेवाह समुदायक अछि। नेवाह जन्म सँ मृत्यु धरि आ पाबनि के अनुसार विभिन्न प्रकार के भोजन तैयार करैत छथि। भोजन कें तीन मुख्य श्रेणी मे वर्गीकृत कैल जा सकय छै: दैनिक भोजन, दैनिक भोजन आ उत्सव कें भोजन. दैनिक भोजन मे उबला चाउर, दालि सूप, तरकारी, अचार आ मांस शामिल अछि। खजा मे प्रायः चिउरा, भुतेको भाटमा, आलू आ मसाला मिलाओल भूतेको मांस होइत अछि। सामान्यतः बैसबाक व्यवस्था ऊपर मे सबसँ पैघ सीट आ अंत मे सबसँ छोट सीट केर व्यवस्था कयल जाइत अछि। नेवारी भोजन में तोरी के तेल आ जीरा, तिल, बेसर, लहसुन, अदरक, पुदीना, लौंग, दालचीनी, खुरसानी आ तोरी के बीज जेहन बहुत रास मसाला के प्रयोग होइत अछि। भोजन लप्ते (विशेष पतली प्लेट,) मे परोसल जाइत अछि। तहिना किछु सूप एकटा बाउल (पातर बाउल) मे परोसल जाइत अछि। दारू सलिचा (माटिक बासन) आ खोल्चा (धातुक छोट बासन) मे परोसल जाइत अछि। भोजन नेवार केरऽ प्रथा आरू धार्मिक जीवन केरऽ एगो महत्वपूर्ण अंग छेकै, आरू पाबनि-तिहार आरू उत्सव के दौरान पकाबै वाला व्यंजन के प्रतीकात्मक महत्व छै । तहिना पाबनि वा समारोहक आधार पर मुख्य चिउराक ऊपर विभिन्न व्यंजन राखल जाइत अछि जाहि सँ देवता लोकनिक विभिन्न रूपक प्रतिनिधित्व आ सम्मान कयल जाइत अछि ।

नेपालभाषा[सम्पादन करी]

नेपालभाषा के चीन-तिब्बती भाषा के रूप में वर्गीकृत करलऽ गेलऽ छै लेकिन एकरऽ व्याकरण, शब्दावली आरू शब्दकोश दक्षिणी इंडो-यूरोपीय भाषा जेना संस्कृत, प्राकृत आरू मैथिली स॑ प्रभावित छै बड़ऽ मात्रा म॑ प्राप्त होय चुकलऽ छै।

नेपालभाषा पहिने सँ लिच्छवी काल मे बाजल जायवला भाषा छल आ किरणती काल मे नेपाल मे बाजल जायवला भाषा सँ एकर विकास मानल जाइत अछि। नेपालभाषा मे १२म शताब्दी सँ शिलालेख आयल अछि, जकर पहिल उदाहरण अछि ताड़क पत्ता पाण्डुलिपि केर उकु बहल। एकर विकास १४म शताब्दी सँ १८म शताब्दीक अंत धरि दरबार आ राज्य भाषाक रूप मे भेल। एकरऽ प्रयोग पाथर आरू तांबा केरऽ शिलालेख, पवित्र पांडुलिपि, आधिकारिक पत्र, पत्रिका, शीर्षक कृति, पत्राचार आरू रचनात्मक लेखन म॑ सार्वभौमिक रूप स॑ करलऽ जाय छेलै । २०११ मे लगभग ८,४६,००० नेपाल भाषी छल । नेपाल भाषा तिब्बती-बर्मी मूलक अछि मुदा भारत-आर्य भाषा जेना संस्कृत, पाली, बंगला आ मैथिली सँ बेसी प्रभावित अछि । नेपाल केरऽ बहुत नेवार समुदाय नेपाल भाषा केरऽ अपनऽ बोली बोलै छै, जेना कि गोपाली नेवारी, दोलखा नेवारी, पहाड़ी नेवारी, प्यांगा नेवारी आदी।

बाह्य जडीसभ[सम्पादन करी]

एहो सभ देखी[सम्पादन करी]

सन्दर्भ सामग्रीसभ[सम्पादन करी]

  1. Sharma, Man Mohan (1978). Census of Nepal, x l[XX[axk XMMx 2011. https://books.google.com/books?id=3LffAAAAMAAJ. 
  2. Central Bureau of Statistics (2014)। Population monograph of Nepal (PDF) (Report)। खण्ड II। Government of Nepal।
  3. Koirala, Bhaskar (19–25 जुलाई 2013)। "Bhaktapur's Mithila influence"। अङ्क 665। Himalmedia Pvt Ltd।
  4. "Mithila, Maithili and Maithil: the Field in Historical Context" (PDF)ShodhGanga। INFLIBNET। pp. 88–89, 101–102।
  5. Levy 1990.
  6. "The Newari Caste System" (अंगरेजीमे)। मूलसँ 26 जनवरी 2012 कऽ सङ्ग्रहित। अन्तिम पहुँच 24 जुन 2023
  7. Gellner, David N. (1997). "Newars and the Nepalese States" in Nationalism and Ethnicity in the Hindu Kingdom: The Politics of Culture in Contemporary Nepal. Harwood Academic Publication. 
  8. Bista, Dor Bahadur (1967). People of Nepal. Kathmandu: Ratna Pustak Bhandar. 
  9. Fisher 1978, p. 487.
  10. Rosser, Colin (1966). Social Mobility in the Newar Caste System. In Furer-Haimendorf. 
  11. Höfer 1979, p. 140.
  12. "मुकारूङ बुलु, सीमित आदिवासी असीमित लोकबाजा, गोरखापत्र'"। Gorkhapatra.org.np। मूलसँ 23 अप्रैल 2013 कऽ सङ्ग्रहित। अन्तिम पहुँच 13 अप्रैल 2019 {{cite web}}: Italic or bold markup not allowed in: |publisher= (help); Unknown parameter |dead-url= ignored (|url-status= suggested) (help)