भीष्म

मैथिली विकिपिडियासँ, एक मुक्त विश्वकोश
एतय जाए: भ्रमण, खोज
भीष्म
The scene from the Mahabharata of the presentation by Ganga of her son Devavrata (the future Bhisma) to his father, Santanu..jpg
जानकारी
परिवार शान्तनु (पिता) आ गङ्गा (माता)

भीष्म अथवा भीष्म पितामह महाभारतक एक पात्र छी । भीष्म पितामह गङ्गा तथा शान्तनुक पुत्र छल । ई महाभारतक सबसँ महत्वपूर्ण पात्रसभमे सँ एक छल । भगवान परशुरामक शिष्य देवव्रत अपन समयके बहुतेक विद्वान आ शक्तिशाली पुरुष छल । महाभारतक प्रसङ्गक अनुसार हर तरहक शष्त्र विद्याके ज्ञानी देवव्रतके कोनो भी किसिमक युद्धमे हराए पेनाए असम्भव छल । ओ सम्भवत: हुनकर गुरु परशुराम मात्र हराए सकैत छल मुदा ई दुनुके बीच भेल युद्ध पूर्ण नै भ सकल आ दुई अति शक्तिशाली योद्धासभके युद्धसँ होमए वाल नुकसानके देखैत एकरा भगवान शिवद्वारा रोकल गेल ।

हिनका अपन ओ भीष्म प्रतिज्ञाक लेल सर्वाधिक जानल जाइत अछि जकर कारणसँ ई राजा बनि सकैत छल मुदा ओ आजीवन हस्तिनापुरक सिंहासनके संरक्षकक भूमिका निर्वाह केलक । ओ आजीवन विवाह नै केलक आ ब्रह्मचारी रहल ।[१]

सन्दर्भ सामग्रीसभ[सम्पादन करी]

  1. "महाभारत के वो 10 पात्र जिन्हें जानते हैं बहुत कम लोग!", दैनिक भास्कर, २७ दिसम्बर २०१३, मूलसँ २८ दिसम्बर २०१३-के सङ्ग्रहित। 

बाह्य जडीसभ[सम्पादन करी]

एहो सभ देखी[सम्पादन करी]