भीष्म

मैथिली विकिपिडियासँ, एक मुक्त विश्वकोश
Jump to navigation Jump to search
भीष्म
The scene from the Mahabharata of the presentation by Ganga of her son Devavrata (the future Bhisma) to his father, Santanu..jpg
जानकारी
परिवार शान्तनु (पिता) आ गङ्गा (माता)

भीष्म अथवा भीष्म पितामह महाभारतक एक पात्र छी । भीष्म पितामह गङ्गा तथा शान्तनुक पुत्र छल । ई महाभारतक सबसँ महत्वपूर्ण पात्रसभमे सँ एक छल । भगवान परशुरामक शिष्य देवव्रत अपन समयके बहुतेक विद्वान आ शक्तिशाली पुरुष छल । महाभारतक प्रसङ्गक अनुसार हर तरहक शष्त्र विद्याके ज्ञानी देवव्रतके कोनो भी किसिमक युद्धमे हराए पेनाए असम्भव छल । ओ सम्भवत: हुनकर गुरु परशुराम मात्र हराए सकैत छल मुदा ई दुनुके बीच भेल युद्ध पूर्ण नै भ सकल आ दुई अति शक्तिशाली योद्धासभके युद्धसँ होमए वाल नुकसानके देखैत एकरा भगवान शिवद्वारा रोकल गेल ।

हिनका अपन ओ भीष्म प्रतिज्ञाक लेल सर्वाधिक जानल जाइत अछि जकर कारणसँ ई राजा बनि सकैत छल मुदा ओ आजीवन हस्तिनापुरक सिंहासनके संरक्षकक भूमिका निर्वाह केलक । ओ आजीवन विवाह नै केलक आ ब्रह्मचारी रहल ।[१]

सन्दर्भ सामग्रीसभ[सम्पादन करी]

  1. "महाभारत के वो 10 पात्र जिन्हें जानते हैं बहुत कम लोग!", दैनिक भास्कर, २७ दिसम्बर २०१३, मूलसँ २८ दिसम्बर २०१३-के सङ्ग्रहित। 

बाह्य जडीसभ[सम्पादन करी]

एहो सभ देखी[सम्पादन करी]