सभापर्व

मैथिली विकिपिडियासँ, एक मुक्त विश्वकोश
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

महाभारतक द्वितीय पर्व, सभा पर्वक अन्तर्गत कुल १० उपपर्व आ ८१ अध्याय अछि।

उपपर्व[सम्पादन करी]

  • सभाक्रिया पर्व
  • लोकपालसभाख्यान पर्व
  • राजसूयारम्भ पर्व
  • जरासन्धवध पर्व
  • दिग्विजय पर्व
  • राजसूय पर्व
  • अर्घाभिहरण पर्व
  • शिशुपालवध पर्व
  • द्यूत पर्व
  • अनुद्यूत पर्व

अध्याय एवम श्लोक[सम्पादन करी]

  • अध्याय एवम श्लोक संख्या : ७८/२५११

विषय-सूची[सम्पादन करी]

सभा पर्वमे देवशिल्पी विश्वकर्माद्वारा इन्द्रप्रस्थक निर्माण तथा मय दानवद्वारा युधिष्ठिरक लेल सभाभवनक निर्माण, देवर्षि नारदद्वारा विभिन्न लोकपालसभक सभासभक वर्णन, देवर्षि नारदक कहै पर युधिष्ठिर द्वारा राजसूय करैक संकल्प केनाइ, जरासन्धक कथा तथा ओकर वध, पाण्डवसभक दिग्विजय यात्रा, शिशुपालवध, दुर्योधन तथा शकुनीद्वारा द्युतक्रीडाक आयोजन, युधिष्ठिरक ओ द्यूतमे हार आ पाण्डवसभक वनवास आदि वर्णित अछि।

चित्र दीर्घा[सम्पादन करी]

बाह्य जडीसभ[सम्पादन करी]

एहो सभ देखी[सम्पादन करी]