वराहगिरी वेङ्कट गिरी

मैथिली विकिपिडियासँ, एक मुक्त विश्वकोश
एतय जाए: भ्रमण, खोज
वराहगिरी वेङ्कट गिरी
Varahagiri Venkata Giri
Varahagiri Venkata Giri.jpg

कार्यकाल
२४ अगस्त १९६९ – २४ अगस्त १९७४
उपाध्यक्ष गोपाल स्वरूप पाठक
अग्रज : मुहम्मद हिदायतुल्लाह
उतराधिकारी : फखरुद्दीन अली अहमद

कार्यकाल
३ मई १९६९ – २० जुलाई १९६९
अग्रज : जाकिर हुसैन
उतराधिकारी : मुहम्मद हिदायतुल्लाह

कार्यकाल
१३ मई १९६७ – ३ मई १९६९
राष्ट्रपति : जाकिर हुसैन
अग्रज : जाकिर हुसैन
उतराधिकारी : गोपाल स्वरूप पाठक
व्यक्तिगत जानकारी
जन्म (१८९४-०८-१०)१० अगस्त १८९४
ब्रह्मपुर, गंजाम जिला, ब्रिटिश भारत
मृत्यु २३ जुन १९८०(१९८०-०६-२३) (८५ वर्ष)
मद्रास, तमिलनाडु
राष्ट्रियता भारतीय
राजनीतिक दल निर्दलीय
जीवनसाथी सरस्वती बाई

वराहगिरी वेङ्कट गिरी या बिबी गिरी (१० अगस्त १८९४ - २३ जुन १९८०) भारतक चारिम राष्ट्रपति छल।[१] हुनकर जन्म ब्रह्मपुर, उडिसामे भेल छल ।[२]

शिक्षा[सम्पादन करी]

वराहगिरीक जन्म भारतक उडिसा राज्यक एक तेलुगु ब्राह्मण परिवारमे भेल छल । सन् १९१३ मे ओ युनिभर्सिटी कौलेज डबलिनक लेल कानूनक अध्ययन करवाक लेल चलि गेल । आयरल्यान्डसँ सन् १९१६ मे एक प्रकारक आयरिश दल आन्दोलनसँ जुड़ललाक बाद हुनका कौलेजसँ निष्कासित करि देल गेल।

जीवन[सम्पादन करी]

ओ १९७५ मे भारतक सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न प्राप्त केलक । ओ एक विपुल लेखक आ एक बढिया वक्ता छल । ओ पर भारतीय उद्योग मे औद्योगिक सम्बन्ध आ श्रम समस्यासभक किताबसभ लिखने छल।

बाह्य जडीसभ[सम्पादन करी]


सन्दर्भ सामग्रीसभ[सम्पादन करी]

एहो सभ देखी[सम्पादन करी]